टैग्स » ग़ज़ल

मैं करता रहा अपनाने की कोशिश...

मैं करता रहा अपनाने की कोशिश,
वो करते रहे आज़माने की कोशिश…

ये दुनिया है या कोई बियाबान है?
हर तरफ निर्बलों को दबाने की कोशिश…

कविता