टैग्स » हाइकु

`गुलमोहर 'पर हाइकू

प्यार दर्शाता
करे पुष्पाभिषेक
गुलमोहर ।

स्वागत करे
प्रेम में बिछ जाए
गुलमोहर ।

पी लेता ताप
ज्वालामुखी सूर्य का
फिर भी हँसे ।

याद दिलाए
भूली -बिसरी यादें
प्रिय की बातें ।

हमें बताओ !
हँसने का रहस्य
गुलमोहर ।

सोख लेते हो
धरा से प्राण ऊर्जा
गुलमोहर ।

देखा न सुना
तुम -सा प्रेम योगी
गुलमोहर ।

डॉ रमा द्विवेदी

हाइकु

हरि भी असहाय - हाइकु

नारी के बिन
हरि भी असहाय
समझे भाय ।

डॉ. रमा द्विवेदी

हाइकु

ताजा हाइकु

ताजा हाइकु

1- दौड़ती रेल
भागता वर्तमान
छूटते दृश्य ।

2- जल प्रधान
रगों में है दौड़ता
दें रक्त दान ।

3-संचित जल
देता अभय दान
सोचो इंसान ?

डॉ. रमा द्विवेदी

© All Rights Reserved

हाइकु