आज कल के युवा को अगर सरल भाषा में मोटीवेट करो तो वो आपको ज्ञानवर्धक चुतिया समझ लेगा क्योंकि आज कल का युथ जेब में आई फोन और अंटी में 500-500 की बाप की दी हुई हरी पत्तियाँ लेकर चलता है और खुद को उच्च कोटी का सिद्ध पुरष/ महिला समझ लेता है ।

आज कल युवा( लोंडे लौंडिया दोनो) आए दिन कुछ न कुछ करके अपने आप को खुबसुरत रखने में प्रयास में चंदन लेप और फलाना ढिमाका क्रिम खरिदने में ज्यादा व्यस्त रहता है, “वैसे खुद को अच्छा रखना, खुद का ध्यान रखना अच्छी बात है”, पर इन्ही सब चुतियापे की आपा धापी में हमारा युथ सबसे आसान चीज पानी को नकार देता है याने ignore कर देता है क्योकि उसे पानी सिर्फ एक पेय पदार्थ….पीने वाली वस्तु लगती है

पर अगर उसे कोई समझाए की पानी में वो सब कुछ है जो उसके चहरे मोहरे से लेकर लाँण लसुन सब ठीक रखता है तो शायद वो हंस पडेगा, आखिर क्यों न हंसे उसे किसी न कभी बताया ही नहीं पानी के गुणों के बारे मे, न घर वालों न कभी सिखाया ।

पानी की जगह वो 10 रु का कोलड्रिंक पिएगा पर एक बोतल पानी कभी नहीं पिएगा हरामी, McD KFC… इत्यादी जगह पर भी 50 50 रु का पेय पदार्थ खरिद के अपना शरिर जरुर बरबाद करेगा पर पानी नहीं पिएगा, पानी पिएगा तो शान में आंच आ जाएगी न लोग गरिब समझ लेंगे सोचेंगे की पैसा नहीं है और चले आते हैं.

इसलिए आज कल ज्यादातर युवा डैंडड्रफ, बाल झडना, चेहरे पर दाग, आँखो के नीचे काले गड्डे पडना इत्यादी बिमारिया अपने जिस्म के 2BHK फ्लैट में पाल रहा होता है, क्योंकि उसे पानी पीने में शर्म आती है और ये 100 टका सत्य है ।

अब पानी पीने के पिछे क्या साईंस है ये इस ब्लाग में समझाने जाउंगा तो आप मुझे ही गाली बकने लगोगे इसलिए आप सभी भोसडीवालो युवा से दरखास्त है कि खुब (कम से कम 5 लिटर) पानी पीए उसे नकारे नहीं, शरीर की शत प्रतिशत बिमारिया दूर होंगी और फाल्तु के क्रिम और मसाज पार्लर में बर्बाद होने वाले पैसे बच जाऐंगे ।