अँधा-धुंध दौड़ता आदमी,
क्या पा लेगा।
ठोकर लगेगी,
और सब बिखर जाएगा।

परमीत सिंह धुरंधर