टैग्स » इंटरनेट

फेसबुक लाइव, ट्विटर पेरिस्कोप और यूट्यूब मोबाइल लाइव स्ट्रीमिंग के जरिए जुड़िए लाखों लोगों से

आजकल लोगों में फेसबुक लाइव, पेरिस्कोप(ट्विटर पर लाइव वीडियों ड़ालने का एप) द्वारा

वीडियों अपलोड करने का क्रेज हैं.

क्या है फेसबुक लाइव-

फेसबुक मुख्य रूप से फेसबुक पेज पर ‘गो लाइव’ अपने फॉलोवर्स से आसानी से जुड़ने का 14 और  शब्द

INDIA

यूरोपीय यूनियन का आरोप- कंपटीशन खत्म कर रहा हैं गूगल.

यूरोप  का गूगल पर एक नया आरोप सामने आया है जिसमें यूरोपीय कमीशन ने ये आरोप लगाया हैं कि गूगल अपने प्रतिद्वंद्वियों को कंपटीशन का अवसर ही नहीं दे रहा है. यूरोपीय यूनियन प्रतिस्पर्धा आयुक्त ने भी इस पर आपत्ति जाहिर की हैं और कहा हैं कि गूगल को कोई अधिकार नहीं है कि वो पूरे कंपटीशन को ही समाप्त कर दें.

यूरोपीय कमीशन ने गूगल पर पहले ही एक आरोप लगाया था कि जब कोई शॉपिंग के लिए गूगल की मदद लेकर सर्च करता हैं तो ये केवल कुछ खास कंपनियों को ही बढ़ावा देता हैं. कमीशन ने गूगल पर एक और आरोप लगाया है कि इसने दूसरे सर्च इंजन प्रतिद्वंद्वियों के वेबसाइट्स को आगे बढ़ने में रोड़ा पैदा कर दी है.

यूरोपीय यूनियन के प्रतिस्पर्धा आयुक्त मार्ग्रेट वेस्टेयर का कहना हैं कि गूगल को अपने प्रतिद्वंद्वियों को इस तरह रोकने का कोई हक नहीं बनता हैं. आखिरकार किस हक से दूसरे कंपनियों को रोकने की कोशिश कर रहा हैं गूगल.

उनका कहना हैं कि गूगल कई अनोखे प्रोडक्ट्स लेकर आया है, जिससे हमारे जीवन में बड़ा बदलाव आया है. लेकिन गूगल को दूसरी कंपनियों को कुछ नया करने और आगे बढ़ने से रोकने का कोई अधिकार नहीं देता हैं.

आपको बचा दें कि अमरीकी कंपनी गूगल यूरोप में पहले से ही एक आरोप का दावा झेल रहा है. आरोप ये लगाया गया है कि गूगल एंड्रायड ऑपरेटिंग सिस्टम में अपने प्रभाव का गलत इस्तेमाल कर रहा है.

अब दूसरा आरोप इसके सिर और मढ़ दिया गया हैं कि गूगल ने एंड्रायड इस्तेमाल करने वाली कंपनियों के सामने भारी मांग रखकर कंपटीशन को समाप्त करने की कोशिश की है.

यूरोपीय कमीशन के इन आरोपों को लगाये जाने के बाद गूगल के एक प्रवक्ता ने कहा है कि हमें यकीन है कि हमारी नई खोज और बेहतर प्रोडक्ट्स ने यूरोपीय ग्राहकों की पसंद का दायरा बढ़ाया है और इससे कंपटीशन भी बढ़ा है. हम यूरोपीय कमीशन के नए केस की भी जांच करेंगे जिसमें उन्होंने कहा है कि गूगल ने पूरी कंपटीशन को ही खत्म कर दिया है और इसके बाद इस पर विस्तार स् अपनी बात रखेंगे.

इंटरनेट

क्यों आपको एक वेबसाइट की जरूरत है?

WWW, इंटरनेट अब हर किसी के जीवन का एक अनिवार्य हिस्सा बन गया है। इससे पहले लोग कुछ जानने के लिए किसी की सलाह लेते थे या फिर किसी विश्वासु दोस्त या अनुभवी व्यक्तियों से सीखते थे और किसी भी बात की पुष्टि करते थे, लेकिन अब वो इंटरनेट पर निर्भर करते हैं जो वे चाहते हैं पाने के लिए। आपको अपने मन के किसी भी प्रश्नों लिए जवाब मिल जाएगा इंटरनेट पे। यहाँ तक कि खरीदारी भी इंटरनेट पे लोगों को बहुत पसंद आ रही है । उपभोक्ताओं और उत्पादकों के लिए यह एक बहुत ही सुविधाजनक तरीका  है। इसके अलावा , इंटरनेट कनेक्शन आज गाँवो तक पहुँचा है। इसलिए, आप एक उत्पाद, सेवा या अपने आप को लोकप्रिय करना  चाहते हैं, तो वेबसाइट एक अधिक सुविधाजनक तरीका होगा।

Website

हाय ! रे मनई

अंतरजाल के बजार मे, बेजार भइल मनई

हर बेरा गूगल के शिकार भइल मनई ॥

घरी घरी टुकुर टुकुर वेभ के निहारत रहे

छितिराइल वेभ क, औंजार भइल मनई ॥

रक्तचाप बढ़ल जाता रोज रोज हिट से

किडनी भी केहु से , उधार लेही मनई ॥

दुनिया के गाँव लेखा, बुझे मे टटोले मे

संवेदनों के अरथी ,निकार देही मनई ॥

शुगर के होस नईखे मदिरा क संग साथ

सर्च करत कुरसी निढाल भइल मनई ।

कफन भा फूल अब मेल से भेजाए लागल

अपनन के बिकट सवाल भइल मनई ॥

दिन बा कि रात बा कहाँ केकर साथ बा

घरहीं मे बड़का बवाल भइल मनई ॥

बोल चाल बंद अब गुमसुम रहे लागल

बाबू खाति जिनगी जवाल भइल मनई ॥

खुद मे सवाल जे, जवाब ढूँढे निकलल

मन भा बेमन के , कहांर भइल मनई ॥

प्रेम के प्रतीति जब सूझत बुझत नाही

सुभीति पर कहवाँ निसार भइल मनई ॥

ढेरका के फेर मे , अबेर ना सबेर देखे

बिहने से बइठल , अधेर भइल मनई  ॥

वाइरस के फेरा मे, घर के बेगाना अस

सर्वर लेखा ट्रैफिक मे, ढेर भइल मनई ॥

  • जयशंकर प्रसाद द्विवेदी
भोजपुरी कविता