टैग्स » चाहत

जो तू ...................

ये गीत एक लड़का उसकी प्रेमिका के लिये गा रहा है।

जो तू मुझे देख कर,
यूं नज़रें झुका लेती है,
तेरी ये शर्म ही,
मुझे तुमसे,
प्यार की वजह देती है,
मैं चाहे रहूं,
कितना भी परेशान,
या रहूं किसी भी,
हालात से,
पार पाने में नाकाम,
पर खयालों में
तेरी एक झलक ही,
मुझे मुश्किल में भी,
मजा देती है,
जो तू……………………
तू जो न दिखे,
किसी दिन,
वो दिन न गुजरे,
तेरे बिन,
तुमसे मिलने की चाहत,
हर दफा होती है,
जो तू………………………

प्रेम

हर कोई चाहता है ।

हर कोई चाहता है प्रेम मगर,
क्या हर कोई करता है प्यार ?
अगर करोगे प्यार तो पाओगे प्यार ।

हर कोई चाहता है सहारा आपत्तिमें,

POEM

ख़याल

मैं चाहता तो हूँ कि ज़मीं आसमां एक कर दूँ,
इनकी मोहब्बत की दूरियां मिटा दूँ,
पर क्या करूँ मैं खुदा नहीं हूँ ना।
और खुदा होता तो भी
इंसान का ये कारनामा देख कर तो वाकई सिहर जाता,
रूह कांप जाती मेरी।।
पर क्या करूँ मैं इंसान हूँ।
मेरी फितरत है चीजों को भुलाना,
वक़्त को इस काबिल बनाना
कि वो मेरे जख्म भर सके।
मेरी ही फितरत है मतलबपरस्ती की ज़िंदगी बसर करना,
कौन कहता है सिर्फ जानवर ऐसा करते हैं,
नजरें उठाये, कोई मेरी तरफ भी तो देखे।।
Hindi

तुमको देखे हुए ग़ुज़रे हैं ज़माने आओ

तुमको देखे हुए ग़ुज़रे हैं ज़माने आओ
उम्र-ए-रफ़्ता का कोई ख़्वाब दिखाने आओ

मैं सराबों में भटकता रहूँ सहरा-सहरा
तुम मेरी प्यास को आईना दिखाने आओ। 9 और  शब्द

All Ghazal