टैग्स » दर्शन

भाषा और मौन की परिभाषा.

भाषा क्या है.

इसे मैं आपको कुछ एस प्रकार समझाता हूँ. जैसे सामने कोई जापानीस आ जाये और वो कुछ बोलने लगे तो हम नहीं समझ सकते हैं. जिस प्रकार अगर कोई हिंदी बोलने वाला हमारे पास आ जाये  हमे समझ आता है. इसे भाषा कहते हैं.

अब मैं आपको अपने शब्दों मैं मौन का अर्थ बताता हूँ.

समझ लो हमारा दिमाग एक कंप्यूटर है. और एक कंप्यूटर सिर्फ जीरो और वन की भाषा समझता है. ऐसे ही कंप्यूटर मैं दो प्रकार की लैंग्वेज होती है. high लेवल प्रोग्रामिंग और लो लेवल प्रोग्रामिंग. ये दोनों प्रोग्रामिंग ही हमे स्क्रीन पर आउटपुट बताता है.

लो  लेवल प्रोग्रामिंग वो भाषा है जिसे हम आम बातचीत मैं इस्तेमाल करते हैं. और हाई लेवल पोर्ग्रम्मिंग वो भाषा है. जिसे हम समझते हैं. और अपने दिमाग को सही और गलत का फैसला लेने के लिए छोड़ देते है. दिमाग उसे समझता है और हमे सही और गलत का फैसला देता है.

अगर हम मों रहते हैं. तो दिमाग उसे अच्छे से समझ सकता है. इसलिए एक शिक्षक अपनी कक्षा मैं मौन रहने को कहता है. ताकि मन उसे अच्छे से समझ सके.

आगे मैं अपने ब्लॉग मैं कुछ नया लिखूंगा एस सम्बन्ध मे.

(16) चींटियों का दर्शन

लेखक :- अरुण गुप्ता

बाग़  में मेरी दृष्टि चींटियों को खाने में व्यस्त तीन चार चिड़ियों पर पड़ीI ऐसा करते देख मैंने उन्हें टोका तथा ज्ञान देते हुए कहा, “क्यों इन बेचारी चींटियों को खा रही होI ऐसा कर तुम पाप कर रही हो? तुम्हें पता है जिन्हें आज तुम खा रही हो कल तुम्हारे मरने के बाद यें ही तुम्हारे शरीर को खायेंगीI”

उन चिड़ियों ने मेरी और कुछ ऐसे देखा जैसे मैंने कोई विचित्र बात कह दी होI उनमें से एक बोली, “हम तो वही खा रहे है जो प्रकृति ने हमारे लिए निर्धारित किया हैI फिर इस बात की भी क्या गारंटी है यदि हम इन्हें खाना छोड़ दे तो यें भी हमारे मृत शरीर को नहीं खायेंगी क्योंकि हमारा मृत शरीर भी तो इनके लिए प्रकृति द्वारा निर्धारित भोजन मात्र ही हैI”

“और जहां तक पाप की बात है हम तो अपने मृत शरीर को इन चींटियों की आने वाली पीढ़ियों को खाने के लिए सौंपकर अपने पाप का कुछ तो प्रायश्चित्त अवश्य कर लेते हैं लेकिन क्या मृत्युपरांत तुम्हारा यह शरीर भी तुम्हारे द्वारा सताए गए किसी जीव या उसके किसी सगे संबंधी के काम आकर तुम्हारे पापों का कुछ भी प्रायश्चित्त करने में सक्षम है?”

उस चिड़िया की बात का मेरे पास कोई उत्तर नहीं था इसीलिए मैं वहां से चुपचाप हट गयाI

        

                            

हिंदी लघु कथाएँ

भारतीय तो बनो जरा......

एक अमेरिकी भारत में घूमने के लिए आता है और
जब वापस अमेरिका पहुचता है तो उसका एक
भारतीय मूल का मित्र
उससे पूछता है-
कैसा रहा भारत का दर्शन ??
.
.
.
.
वह बोलता है-
“वास्तव में भारत एक अद्वितीय
जगह है.
मैंने ताजमहल देखा, दिल्ली, मुंबई से
लेकर भारत की हर
वह छोटी बड़ी जगह देखी जो
प्रसिद्द है.
.
.
.
.
वास्तव में भारत केवल एक ही है, कोई
दूसरा नहीं.”
.
.
.
भारतीय अपने देश की तारीफ
सुनकर बहुत खुश
हुआ.
और पूछा”हमारे भारतीय कैसे हैं??”
.
.
.
अमेरकी बड़े ध्यान से देखने लगा, फिर बोला…
“वहां तो मैंने कोई भारतीय देखा ही
नहीं.”
भारतीय पुरुष उसका मुह देखने लगा !!
.
.
.
अमेरिकी बोलता रहा-
“मैं एअरपोर्ट पर
उतरा तो सबसे पहले मेरी भेट मराठियों से हुई,
आगे बढा तो पंजाबी,
हरियाणवी, गुजराती,राजस्थानी , बिहारी,
तमिल और
आसामी जैसे बहुत से लोग मिले.
कहीं हिन्दू मिले तो कहीं सिक्ख, मुस्लिम
और
इसाई मिले…
.
.
.
छोटी जगहों पर
गया तो मेरठी,बनारसी,जौनपुरी, -सुल्तानपुरी ,
बरेलवी मिले…
.
.
.
नेताओं से मिला तो कांग्रेसी,

भाजपाई,
बसपाई,

AAP वाले …

गाँव में गया तो
ब्राह्मण,
क्षत्रिय,

वैश्य और शुद्र मिले.

परन्तु भारतीय तो कहीं मिले

ही नही.???

भारतीय बनो । —कुछ ऐसा करो ,

कुछ ऐसा दिखो कि

भारतीय लगो
जय हिन्द।

कोट्स