टैग्स » हिन्दी कविता

दो पन्यारी

दो पन्यारी आँखों में तिगड़म तिगड़म चलती है

दो पन्यारी आँखों में डिगबम डिगबम जलती है

ढिठूम बनामी चौक में धिकधुम धिक पिघलती है

… धिकि धुम धिकि धुम …

… धिकि धुम धिकि धुम …

धिड़कम धिड़कम डिलठम डिलठम गनम गनम

धिषिधम धिषिधम

रपचिक धिचिक धुआं न खिचिक

गुनगागामें धुनक धुना नूँ

झुनका झिक

घिचि घिचि घिचि घिच

ढीलाम बोहोत है चाकरी कई और किसम की धाक री

… धिकि धुम धिकि धुम …

… धिकि धुम धिकि धुम …

काव्य कणिका

छोडो ये किताबोसे सीखना

कुछ हम तुमसे सीखे

कुछ तुम हमसे सीखो….

********************************

ऐसे आदमीओ से तो बहुत डरते है हम.

एक तो जूठ बोलते है

फिर कहते है आपकी कसम……

********************************

दर्द की तो हमें आदत पड गई,

बेदर्दो के साथ वास्ता है जो…..

********************************

बेदर्दो से दर्द नहीं मिटता,

दर्द मिटा ने केलीये हमदर्द चाहिए.

********************************

केसी गजब दुनिया है ये Word छुपाने केलिए Password चाहिए….

********************************

जिसकी राह पे हम चलने निकले, क्या करू इन्होने ही राह बदलली…..

********************************

हर घडी वो घडी नहीं रहेती, जिसका घडी घडी इंतजार करते थे,

पल तो आकर चला जाता है, जिसका पल पल इंतजार करते है.

********************************

वख्त को इल्जाम मत दो, उसका तो काम ही है चलाना,

एक हम ही है की वख्त के साथ चल न पाए, इल्जाम वख्त को देते है….

********************************

मे हिन्दू, मे मुस्लिम करते है एक-दुसरे पे वार,

समजते क्यों नहीं यार, हम है एक परिवार.

********************************

मुस्कराहट मुस्कराहट में फर्क है……

किसी के साथ भी मुस्कुराया जाता है,

और किसी पर भी मुस्कुराया जाता है.

मुस्कराने  से रिस्ते जोड़े भी जाते है,

मुस्कराने  से रिस्ते तोड़े भी जाते है.

  • नितिन गज्जर
हिन्दी कविता