यह व्यंग्य लेख एक दूसरी  साईट पर ट्रान्सफर कर दिया गया है. लेख पढने के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें.

दुख के सब साथी सुख में न कोय